नींबू के ये है अचूक टोटके, जो कभी फ़ैल नही होते

नींबू के ये है अचूक टोटके, जो कभी फ़ैल नही होते

नींबू को कभी भी साधारण चीज मत समझ लेना। क्योंकि तांत्रिकों के मुताबिक नींबू के टोटको से आप अपने बुरे दिनों को भी अच्छे दिनों में बदल सकते हैं।

आइए जानिए नींबू के चमत्कारिक उपाय के बारे में…

अगर कोई व्यक्ति अचानक ही बीमार हो जाए तथा उस पर किसी भी प्रकार की दवाओं का कोई प्रभाव नही हों तो इसके लिए भी नींबू का टोटका किया जाता है।

ऐसी स्थिति में एक साबूत नींबू के उपर काली स्याही से 307 लिख दें और उस व्यक्ति के उपर उल्टी तरफ से 7 बार उतारें। इसके पश्चात उसी नींबू को चार भागों में इस प्रकार से काटें कि वह नीचें से जुड़े रहें। और फिर उसी कटे हुए नींबू को घर से बाहर किसी दूर निर्जन स्थान पा फेंक दें।

जब भी टोटका करने के बाद नींबू फेंके तो पीछे मुडक़र नही देखें। और सीधे अपने घर की तरफ आ जाएं।

अक्सर हम रोड पर नींबू-मिर्च पड़ी हुई देखी जाती है, किसी चौराहे या तिराहे पर कोई नींबू या नींबू के टुकड़े पड़े रहते हैं तो ध्यान रखें उन निम्बू पर हमारा पैर नहीं लगाना चाहिए।

अगर आपके मकान में किसी बच्चे या बड़े व्यक्ति को बुरी नजर लग जाए तो उसके सिर से लेकर पैर तक सात बार नींबू उसार लें। इसके बाद इस नींबू के चार टुकड़े करके किसी सुनसान जगह या किसी तिराहे पर फेंक दें।

अगर किसी व्यक्ति का व्यापार ठीक से नहीं चल रहा है तो उसे शनिवार के दिन नींबू का तांत्रिक उपाय करना चाहिए। इस टोटके के मुताबिक एक नींबू को दुकान की चारों दीवारों से स्पर्श कराएं।

इसके बाद नींबू को चार टुकड़ों में अच्छे से काट लें और चौराहे पर जाकर चारों दिशाओं में नींबू का एक-एक टुकड़ा फेंक दें। चौराहे से जाते हुए जो भी व्यक्ति उस नींबू को पार कर चला जाएगा या उसे स्पर्श करेगा तो बीमार व्यक्ति की सारी बीमारी उसको को लग जाती है।

अगर कड़े परिश्रम के बाद भी सफलता नहीं मिल रही है तो किसी हनुमान मंदिर जाएं और अपने साथ एक नींबू एवं 4 लौंग लेकर जाएं। इसके बाद मंदिर में पहुंचकर नींबू के ऊपर चारों लौंग लगा दें।

फिर हनुमानजी के समक्ष हनुमान चालीसा का पाठ करें। इसके बाद हनुमानजी से सफलता दिलवाने की मनत मांगे करें और नींबू लेकर काम शुरू कर दें। इससे आपके कामकाज में सफलता की संभावना बढ़ जाएंगी।

लादेन का सिर पूरी तरह से फट चूका था, शिनाख्त के लिए फिर से जोड़ा गया : पूर्व नेवी कमांडो

Related posts:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *